MP News : नये साल में महाकालेश्वर मंदिर जानें से पहले जान लें ये खास बात, लाखों श्रद्धालु पहुंचेंगे यहां

mahakaleshwar mandir in new year 2023 : कल से हम नये साल में प्रवेश कर जाएंगे. नये साल में लोग धार्मिक स्थलों में जाना पसंद करते हैं. इस दिन मध्य प्रदेश के उज्जैन में प्रसिद्ध महाकालेश्वर मंदिर में भी भारी भीड़ उमड़ने की संभवना है. बताया जा रहा है कि नये साल के अवसर पर महाकाल का आशीर्वाद लेने के लिए शनिवार से सोमवार तक तीन दिन में करीब पांच लाख श्रद्धालुओं के आने की संभावना है.

मंदिर के सहायक प्रशासनिक अधिकारी आरके तिवारी ने ‘पीटीआई-भाषा’ से बातचीत के क्रम में बताया कि हम शनिवार, रविवार और सोमवार को महाकालेश्वर मंदिर में पांच लाख श्रद्धालुओं के आने की उम्मीद कर रहे हैं, क्योंकि लोग भगवान महाकाल का आशीर्वाद लेकर अपने नए साल की शुरुआत करना चाहते हैं. महाकालेश्वर देश के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है. यह मंदिर पवित्र क्षिप्रा नदी के किनारे स्थित है.

विभिन्न हिस्सों से श्रद्धालु महाकालेश्वर मंदिर में आते हैं

सहायक प्रशासनिक अधिकारी आरके तिवारी ने आगे बताया कि दुनिया के विभिन्न हिस्सों से श्रद्धालु इस मंदिर में आते हैं. भक्तों को प्रसाद के रूप में दिए जाने वाले ‘बेसन के लड्डू’ का उत्पादन दोगुना करने के लिए मंदिर प्रशासन दिन-रात काम कर रहा है. उन्होंने बताया कि श्रद्धालुओं को मंदिर में आसानी से प्रवेश और निकास मिले, इसके लिए विशेष व्यवस्था की गयी है. इसके अलावा, मंदिर और उसके आसपास सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गयी है. भक्तों को परामर्श देने के लिए छह सहायता केंद्र बनाये गये हैं. किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए चिकित्सा टीम और एम्बुलेंस का प्रबंध किया गया है.

मंदिर के बाहर काउंटर बढ़ा दिये गये

आरके तिवारी ने बताया कि श्रद्धालुओं को अपने जूते, मोबाइल, बैग आदि चीजें रखने की सुविधा देने के लिए मंदिर के बाहर काउंटर बढ़ा दिये गये हैं. भक्तों के लिए पेयजल और शौचालय की व्यवस्था भी की गयी है. महाकालेश्वर मंदिर में तड़के चार बजे से सुबह छह बजे तक भस्म आरती का आयोजन किया जाता है. मंदिर रात दस बजे तक श्रद्धालुओं के प्रवेश के लिए खुला रहता है और पूजा के बाद रात को 11 बजे बंद हो जाता है.

#News #नय #सल #म #महकलशवर #मदर #जन #स #पहल #जन #ल #य #खस #बत #लख #शरदधल #पहचग #यह

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Language »